Recent Posts

A Helping Hand for cardiac

Posted on 2018-06-04

Diabetes: Silent killer

Posted on 2018-04-18

Benefit of Juices

Posted on 2018-04-19

Related Blogs

Benefit of Juices

Posted on 2018-04-19

Blog

गर्भावस्था और नेचुरोपैथिक आहार प्रबंधन


 

गर्भावस्था में किसी भी महिला के लिए पौष्टिक आहार अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। यह न केवल मां के लिए बल्कि होने वाले बच्चे के स्वास्‍थ्‍य के लिए भी अत्यंत जरूरी होता है। इसलिए गर्भवती महिला की डाईट में पौष्टिक पदार्थों का सही मेल होना बेहद जरूरी है। साथ ही, आपको अपने खाने का लिए अतिरिक्त ध्यान रखना होता है। लेकिन, जानकारों की नजर में नेचुरोपैथी का आहार प्रबंधन किसी भी गर्भवती महिला के लिए बेहद उपयोगी आहार योजना हो सकती है। गर्भावस्था में खाने-पीने के मामले में नेचुरोपैथिक डाईट एक विश्वसनीय उपाय है। योग और नेचुरोपैथी गर्भवती महिलाओं के लिए एक आदर्श प्रोटोकॉल है।

 

आइए बात करें, गर्भावस्था में नेचुरोपैथिक डाईट मेन्यू के बारे में-

 

1) नेचुरोपैथी के अनुसार, गर्भधारण से पहले भोजन कम से कम 3 महीने तक ताजा फलों के रूप में मिलाकर करना चाहिए।

2) गर्भावस्था के दौरान नेचुरोपैथिक डाईट में बासमती चावल को बेहतर विकल्प के तौर पर देखा जाता है। मीठे आलू, अंकुरित अनाज और सब्जियां उनके उच्च पोषण के महत्व की वजह से सूची से हम बाहर नहीं रख सकते।

3) मां बनने जा रही महिला तरल या घी के साथ या दूध के साथ मिश्रित चावल खा सकती है।

4) हर सुबह एक गिलास फलों का ताजा रस पीना चाहिए।

5) दलिया और अनाज खाएं। गर्भावस्था के दौरान नेचुरोपैथिक डाईट में विटामिन सी भी आता है। जो माँ और बच्चे दोनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। गाजर, टमाटर में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी होता है। इसलिए दोपहर के भोजन में इसे शामिल करें।

6) पेट में पल रहे बच्चे के विकास के बारे में बात करें, तो गर्भावस्था के पहले तीन महीने अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं। भ्रूण के विकास के लिए दूध और पानी, नारियल पानी और फलों के रस जरूर पिएं।

7) सातवें महीने के दौरान नमक और फैट की मात्रा को कम करना आवश्यक है।

8) नेचुरोपैथिक डाईट में गेहूं, जई, अंकुरित, सेम, मसूर, रोटी, सेम और काले चने आते है। इन खाद्य पदार्थों में प्रोटीन का खजाना होता है, और गर्भावस्था के लिए एकदम सही नेचुरोपैथिक डाईट है। आलू, पालक, बादाम, अंजीर, अंगूर और सूखे मेवे भी एक भ्रूण के लिए अच्छे आहार है। चिकित्सकिया परामर्श आवश्यक होता है।

गर्भावस्था में डाईट का सही चयन वास्तव में बच्चे के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का फैसला करता हैं। इस समय के दौरान स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होना बहुत जरूरी है।

~डॉ हरप्रीत सिंह भंडारी

राज्य पुरस्कार से सम्मानित व प्राकृतिक चिकित्सक,

केंद्रीय कार्यकारिणी सदस्य

आईएनओ

Facebook/HarpreetSinghBhandari

whatsApp Share our Facebook Share our Twitter Share our Google+

Benefit of Juices
Read More...

Recent Posts

A Helping Hand for cardiac

Posted on 2018-06-04

Diabetes: Silent killer

Posted on 2018-04-18

Benefit of Juices

Posted on 2018-04-19

Related Blogs

Benefit of Juices

Posted on 2018-04-19

No Comments

LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Contact Us